Follow us on Facebook

Hindi Poem – Mohtaj Nahi

Hindi Poem – Mohtaj Nahi
Hindi Poem – Mohtaj Nahi



लोग होठों पे सजाये हुए फिरते हैं मुझे,
मेरी शोहरत किसी अखबार की मोहताज नहीं,
इसे तूफ़ान ही किनारे से लगा सकता है,
मेरी कश्ती किसी पतवार की मोहताज नहीं,
मैंने मुल्कों की तरह लोगों के दिल जीते हैं,
ये हुकूमत किसी तलवार की मोहताज नहीं..
Hindi Poem – Mohtaj Nahi Hindi Poem – Mohtaj Nahi Reviewed by Ridhi Patel on 10/27/2016 12:54:00 pm Rating: 5

No comments